मानस चिंतन,पार्वती विवाह,तदपि एक मैं कहउँ उपाई। होइ करै जौं दैउ सहाई॥